क्या उद्यमिता आपके लिए उपयुक्त है

Is Entrepreneurship Appropriate For You

 

आपको क्या करना पसंद है या आपको अपने काम का कौन सा हिस्सा अच्छा लगता है ?

विचार करिए कि किस बात के लिए आपके मन में उत्साह और उमंग है और आपको क्या करना अच्छा लगता है। सफलता की अनेक उदाहरण तब सामने आए हैं, जब लोगों ने अपने जुनून और अपने सपनों के लिए काम किया है। जरा इस तरह से सोच कर देखिए - आप सप्ताह में 40 से ज्यादा घंटे उस काम को करते हुए बिताना चाहेंगे जो आपको पसंद नहीं है या आप इन घंटो को उस काम में लगाना चाहेंगे जो आपको प्रिय है।

क्या आप अपने विचार को लेकर उत्साहित हैं ?

आपके विचार की सफलता के लिए उत्साह अत्यंत महत्वपूर्ण है। आखिर अगर आप अपना खुद का कारोबार शुरू करने या अपने विचार को आगे बढ़ाने की बात सोचकर उत्साहित नहीं होते तो फिर यह आपके मौजूदा काम से भला किस तरह अलग होगा। आपके उत्साह से ही दूसरे लोग आपके विचार / कारोबार का नोटिस लेंगे।

क्या यह पर्याप्त रूप से भिन्न है ?

 अनके लोगों को यह भ्रम है कि नए विचार होते ही नहीं है। यह सच नहीं है, पर साथ ही आपको इस तथ्य पर भी ध्यान देना चाहिए कि बहुत कम कारोबार ही दूसरों से 100% भिन्न होते हैं। आपको जरूरत होती है एक ऐसे विचार की जिसे आपका लक्ष्य समूह पसंद करे और उसके लिए पैसा खर्च करने के लिए तैयार हो।

उदाहरण के लिए फोर्ड कंपनी को देखिए। कार पहले भी बनाई जा रही थीं, इसलिए कार बनाने का विचार कोई क्रांतिकारी विचार नहीं था। उन्होंने विनिर्माण प्रक्रिया को संशोधित किया और उससे भारी लाभ कमाया। इसका सबक यह है कि मौजूदा कारोबार मॉडल में सुधार एक बढ़िया कार्यनीति हो सकती है।

यदि आप अपने विचार को कभी आगे नहीं बढ़ाएंगे तो क्या आपको इसका दर्द सालेगा

अपने व्यावसायिक विचार को आगे न बढ़ा पाने का पछतावा उसी तरह चुभता रहता है जिस तरह असफलता का भय। इसका यह मतलब नहीं है कि आप अपने हर विचार को आगे बढ़ाएं पर जिस विचार को आप सच में महत्वपूर्ण समझते हैं, उसे आगे बढ़ाकर खुद को सफल होने का एक मौका जरूर दें।

क्या यह इस लायक है कि किसी दूसरे काम को त्याग दिया जाए

यह बहुत ही व्यक्तिनिष्ठ सवाल है। हर व्यक्ति इस पर अलग ढंग से सोचेगा। त्यागने में कंपनी की नौकरी से मिलने वाली बहुत सी सुविधाओं का त्याग भी शामिल होगा। चूंकि आपको अपने नए उद्यम को काफी समय देना होगा, अतः आपको अपने परिवार और मित्रों के साथ बिताए जाने वाले समय का भी त्याग करना होगा। अपना खुद का कारोबार शुरू करने का अर्थ यह भी हो सकता है कि आपको कुछ समय के लिए कम बजट में काम चलाना पड़े। आपको यह देखना होगा कि आपको क्या-क्या त्यागना पड़ सकता है। अगर यह सूची बहुत लंबी हो या आप ये त्याग कर पाने की स्थिति में न हों तो शायद आप उद्यमिता के लिए अभी तैयार नहीं हैं।

आपके जीवन के अनुभव क्या रहे हैं

आपके पिछले अऩुभव यह तय करने में मददगार होंगे कि आपको उद्यमिता को अपनाना चाहिए या नहीं। यदि आप अपने मौजूदा काम से खुश नहीं हैं अथवा वहाँ करियर विकास की संभावनाएं सीमित हैं तो आप उद्यमी बनने के बारे में सोचना चाहिए।

फीडबैक कितनी मजबूत है ?

आपका विचार विचार ही न रह जाए बल्कि एक पूर्ण व्यवसाय के रूप में विकसित हो, इसके लिए फीडबैक बहुत जरूरी है। यह समझने की कोशिश करिए कि जब आप अपना विचार लोगों के सामने रखते हैं तो उनकी क्या प्रतिक्रिया होती है। लोगों के साथ चर्चा से फीडबैक मिलने का अर्थ है कि आपके विचार में उनकी दिलचस्पी है। विचार को विकसित करना एक सतत प्रक्रिया है और यदि आपका विचार लोगों की दिलचस्पी जगा रहा है तो आप सही रास्ते पर हैं।