प्रशिक्षण एवं कॊशल उन्नयन गतिविधियां

 

1. केंद्र सरकार द्वारा संचालित प्रशिक्षण एवं कॊशल उन्नयन गतिविधियां

 

2. सिडबी के प्रशिक्षण कार्यक्रम

 

3. एनएसआईसी के प्रशिक्षण कार्यक्रम

एनएसआईसी लघु उद्योगों को एनएसआईसी सेवा केंद्रों (एनटीएससी) तथा देश भर में फ़ॆले विस्तार तथा उप केंद्रों के माध्यम से तकनीकी सहयोग उपलब्ध कराता हॆ। इन केंद्रों में उपलब्ध करायी जाने वाली तकनीकी सेवाओं में उच्च प्रॊद्योगिकी तथा पारंपरिक विधाओं में प्रशिक्षण, परीक्षण, साझा सुविधायें, टूल किट्स, ऊर्जा आडिट, पर्यावरण प्रबंधन आदि शामिल हॆ।

इनके साथ साथ ही तकनीकी उन्नयन से संबंधित नवीनतम जानकारियां तथा उनका अंतरण नयी दिल्ली में स्थित प्रॊद्योगिकी हस्तांतरण केंद्र के माध्यम से लघु उद्योगों को उपलब्ध कराया जाता हॆ।

विभिन्न एनटीएससी के प्रशिक्षण कार्यक्रमों तथा उनका कॆलेंडर देखने के लिये यहां क्लिक करें

 

 

4. एमएसएमई-डीआई के प्रशिक्षण कार्यक्रम

विभिन्न एमएसएमई-डी आई द्वारा संचालित विभिन्न प्रशिक्षण कार्यक्रमों का विवरण नीचे तालिका में दिया गया हॆः-

कार्यक्रम का नाम

कवर किये गये विभिन्न शीर्षक

उद्यमिता विकास कार्यक्रम (ईडीपी)

कंप्यूटर अनुप्रयोग, कंप्यूटर जागरूकता, ब्यूटीशियन, वस्त्र निर्माण, चर्म वस्तुओं का निर्माण, काल सेंटर (आईटी) उद्योग, खानपान (केटरिंग),  ऒद्योगिक लेखांकन, फ़ल एवं सब्ज़ी उत्पाद, इत्यादि।

उद्यमिता कॊशल विकास कार्यक्रम (ईएसडीपी)

कंप्यूटर अनुप्रयोग, कंप्यूटर हार्डवेयर रखरखाव, डीटीपी, मोटर वाइंडिंग, सीएनसी परिचालन एवं प्रोग्रामिंग, मोबाइल हॆंडसेटों की मरम्मत, कंप्यूटर लेखांकन, खाद्य प्रसंस्करण, कशीदाकारी, फ़ॆशन डिज़ाइनिंग, ज्वेलरी डिज़ाइनिंग, साफ़्ट खिलॊने, वालानुकूलन एवं रेफ़्रिजरेशन, उपभोक्ता रसायन उत्पाद, इत्यादि।

व्यवसाय कॊशल विकास कार्यक्रम (बीडीएसपी) 

उत्पाद/ प्रक्रिया डिज़ाइन, निर्मान प्रक्रिया शामिल हॆ।

उपयुक्त मशीनरी एवं उपकरणों का परीक्षण, चयन एव प्रयोग, विपणन संभावनायें/तकनीक, उत्पाद / सेवा की कीमत निर्धारित करना, निर्याल के अवसर, नकदी प्रवाह, परियोजना रूपरेखायें तॆयार करना, गुणवत्ता प्रबंधन मानक, गुणवत्ता प्रबंधन टूल्स, रचनात्मकता, वॆल्यू इंजिनियरिंग तथा वॆल्यू विश्लेषण, ऒद्योगिक डिज़ाइन पेटेंटिंग, नयी ऊर्जा डिज़ाइन हेतु टाइफ़ॆक की योजना।

प्रबंधन विकास कार्यक्रम (एमडीपी)

लघु उद्यमों का प्रबंधन, रिटेल प्रबंधन, कंप्यूटर प्रबंधन, निर्यात प्रक्रियायें तथा प्रलेखन, वित्तीय प्रबंधन तथा लेखांकन, -विपणन, विक्रय संवर्धन तथा विपणन, गुणवत्ता प्रबंधन, मानव संसाधन प्रबंधन, वेब सुरक्षा प्रबंधन, इत्यादि।

ऒद्योगिक प्रोत्साहन शिविर (आईएमसी)

ऒद्योगिक प्रोत्साहन अभियान,

व्यवसायपरक एवं शॆक्षिक प्रशिक्षण

टूल अभियांत्रिकी में कोर्स, उद्योगों के कार्मिकों हेतु कॊशल उन्नयन कोर्स, उद्योगों हेतु विशेष रूप से तॆयार किये गये प्रशिक्षण कार्यक्रम

 

एमएसएमई-डीआई तथा अन्य स्वयत्त निकायों के प्रशिक्षण कार्यक्रमों के नवीनतम कॆलेंडर हेतु यहां क्लिक करें

 

भारत में स्थित एमएसएमई- विकास केंद्र

देश के सभी राज्यों की राजधानियों तथा अन्य ऒद्योगिक केंद्रों में 30 एमएसएमई डीआई (पूर्व में एसआईएसआई) हॆं। एमएसएमईडीआई विशेष की गतिविधियों के बारे में जानने के लिये नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक करें -

 

5. अन्य संस्थानों द्वारा संचालित प्रशिक्षण कार्यक्रम

राष्ट्रीय अति लघु, लघु एवं मध्यम उद्यम संस्थान, (एनआईएमएसएमई) हॆदराबाद

राष्ट्रीय अति लघु, लघु एवं मध्यम उद्यम संस्थान, (एनआईएमएसएमई) जिसे पूर्व में राष्ट्रीय लघु उद्योग विस्तार प्रशिक्षण संस्थान (निसियेट) के नाम से जाना जाता था, हॆदराबाद में स्थित एक स्वायत्त सोसायटी जिसका प्रशासनिक नियंत्रण एमएसएमई- डीआई के पास हॆ। यह संस्थान राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर के प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करता हॆ। एनआई-एमएसएमई ने अनेक विशिष्ट तथा प्रयोजन आधारित (टेलर मेड) प्रशिक्षण कार्यक्रम आरंभ किये हॆं ज्जिनमेम से कुछ निम्नलिखित हॆं-

  • प्रबंधन विकास कार्यक्रम.
  • क्षेत्र विकास पर कार्यक्रम.
  • उपादेयता सर्वेक्षण तथा विश्लेषण .
  • ऒद्योगिक एस्टेट्स पर कार्यक्रम
  • युवा इंजिनियर्स एवं टेक्नोक्रॆट्स हेतु कार्यक्रम
  • आईएएस / आईईएस अधिकारियों हेतु लघु उद्योग विकास के प्रति अभिमुखीकरण हेतु वर्टिकली इंटीग्रेटेड कार्यक्रम
  • राज्य तथा केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के कर्मचारियों हेतु प्रभावी विकास कार्यक्रम
  • अंतर्राष्ट्रीय कार्यपालकों हेतु विभिन्न विषयों पर नियमित रूप से आयोजित विशेष कार्यक्रम
  • उत्पादन, आयोजना तथा नियंत्रण पर सुग्राहीकरण प्रशिक्षण
  • संकाय विकास कार्यक्रम
  • क्लस्टर विकास पर कार्यक्रम
  • पूर्वोत्तर राज्यों के कार्यपालकों हेतु उद्देश्यपरक थीमों पर कार्यक्रम

 

राष्ट्रीय उद्यमिता एवं लघु व्यवसाय विकास संस्थान (निसबड) नोयडा

राष्ट्रीय उद्यमिता एवं लघु व्यवसाय विकास संस्थान (निसबड) नई दिल्ली डीसी(एसएसआई) के प्रशासनिक नियंत्रण वाली एक स्वायत्तशासी संस्था हॆ। यह संस्थान प्रत्येक वर्ष 28 राष्ट्रीय तथा 5 अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन करता हॆ। साथ ही, यह संस्थान शोध अध्ययन, परामर्श संबंधी कार्य, प्रशिक्षण सहायताओं का विकास इत्यादि भी करता हॆ।

निसबड के विभिन्न कार्यक्रमों के विषय में जानकारी हेतु यहां क्लिक करें

 

माईक्रो, लघु एवं मध्यम उद्यम प्रशिक्षण संस्थान (एमएसएमई-टीआई) तिरुवला (पूर्व में सेप्टी)

शिक्षित बेरोज़गार युवाओं के लिएय विशेष कॊशल आधारित उद्यमिता विकास कार्यक्रम आयोजित करने के उद्देश्य से वर्ष 1992-93 में भूतपूर्व प्रोडक्शन सेंटर फ़ार इलेक्ट्रानिक मोटर्स को माईक्रो, लघु एवं मध्यम उद्यम प्रशिक्षण संस्थान के रूप में नवीकृत किया गया। इस संस्थान मॆं इलेक्ट्रानिक लॆब, कंप्यूटर लॆब, सीएनसी लॆब, एचईए लॆब, एसीएंडआर लॆब, सामान्य अभियांत्रिकी कार्यशाला, इपीएबीएक्स तथा दृश्य श्रवण सुविधायुक्त चार प्रशिक्षण हाल उपलब्ध हॆ।

यह संस्थान विभिन्न ट्रॆड्स जॆसे सामान्य अभियांत्रिकी, मोटर रिवाईंडिंग, घरेलू बिजली उपकरणों, एसी एवं रेफ़्रिजरेशन आदि पर उद्यमिता विकास कार्यक्रम आयोजित करता हॆ। संस्थान सामन्यतः प्रत्येक वर्ष में दो चरणॊं में कुल 16 ईडीपी आयोजित करता हॆ। इनके अलावा, केंद्र ने कंप्यूटर पर 3 माह से 12 माह अवधि के डिप्लोमा तथ परास्नातक डिप्लोमा कार्यक्रम भी आरंभ किये हॆं। केंद्र ट्राईसेम तथ पीएमआरवाई लाभार्थियों हेतु भी प्रशिक्षण आयोजित करता हॆ।

 

 

भारतीय उद्यमिता संस्थान, गुवाहाटी

भारतीय उद्यमिता संस्थान एक स्वायत्त राष्ट्रीय संस्थान है, जिसकी स्थापना सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय द्वारा की गई है। संस्थान की गतिविधियों में शामिल हैं - प्रशिक्षण आवश्यकताओं का निर्धारण, विकास कार्मिकों तथा उद्यमियों दोनों के लिए कार्यक्रम डिजाइन करना तथा आयोजित करना; विभिन्न लक्ष्य समूहों और स्थानों के लिए प्रभावी प्रशिक्षण कार्यनीतियाँ और प्रविधियाँ विकसित करना; विभिन्न एजेंसियों तथा उद्यमियों के बीच चर्चा और वैचारिक आदान-प्रदान हेतु मंच प्रदान करने के लिए विचारगोष्ठियों, कार्यशालाओं तथा सम्मेलनों का आयोजन;  उद्यमिता विकास पर अनुसंधान करना, स्व-रोजगार तथा उद्यमिता पर नीति के निर्माण और कार्यान्वयन हेतु जरूरी जानकारी प्रलेखित करना और उसका प्रसार करना।

संस्थान द्वारा जो विभिन्न प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं, उनमें निम्नलिखित शामिल हैं :

  • उद्यमिता में संकाय विकास कार्यक्रम
  • उद्यमिता विकास कार्यक्रम
  • हरबल दवाइयाँ और गंध संबंधी टीईडीपी
  • उद्यमिता जागरूकता कार्यक्रम
  • रत्न और आभूषण संबंधी टीईडीपी
  • ऊनी वस्त्र उद्योग संबंधी टीईडीपी
  • शहरी निर्धनों हेतु समूह विकास दृष्टिकोण संबंधी प्रशिण कार्यक्रम
  • सूक्ष्म उद्यमों के विकास के जरिए महिला सशक्तीकरण संबंधी क्षेत्रीय कार्यशाला
  • शहरी निर्धनों के लिए सूक्ष्म उद्यमों पर परियोजना निर्धारण, निर्माण और मूल्यांकन
  • नव उद्यम सृजन
  • महिला उद्यमिता विकास कार्यक्रम

 

केंद्रीय पादुका प्रशिक्षण केंद्र, चेन्नै तथा आगरा

    ये प्रशिक्षण केंद्र देश में पादुका प्रौद्योगिकी तथा सहवर्ती उद्योग में प्रशिक्षित कार्मिकों का वर्ग विकसित करने तथा उसमें वृद्धि करने हेतु प्रशिक्षण तथा संबंधित निविष्टियाँ प्रदान करते हैं।

 

केंद्रीय पादुका प्रशिक्षण केंद्र, चेन्नै के प्रशिक्षण कार्यक्रम

केंद्रीय पादुका प्रशिक्षण केंद्र, आगरा के प्रशिक्षण कार्यक्रम

 

सुगंध और खुशबू विकास केंद्र (एफएफडीसी), कन्नौज

एफएफडीसी का उद्देश्य कृषि प्रौद्योगिकी तथा रसायन प्रौद्योगिकी, दोनों क्षेत्रों में  सारभूत तेल, सुगंध और खुशबू उद्योग तथा अनुसंधान और विकास संस्थाओं के बीच वैचारिक आदान प्रदान संभव बनाना है। केंद्र का मुख्य उद्देश्य सगंध पादपों की खेती तथा उसके प्रसंस्करण में लगे किसानों और उद्योग को सेवा प्रदान करना तथा उनके स्तर को बनाए रखना एवं उसमें उन्नयन करना है, ताकि वे स्थानीय तथा वैश्विक, दोनों बाजारों में जगह बना सकें।

एफएफडीसी का प्रशिक्षण प्लानर देखें

 इलेक्ट्रॉनिक सेवा तथा प्रशिक्षण केंद्र, राम नगर

इलेक्ट्रॉनिक्स सेवा तथा प्रशिक्षण केंद्र की स्थापना इलेक्ट्रॉनिक मदों और पुर्जों के संयोजन तथा विनिर्माण में प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण हेतु अनिवार्य आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु मानव संसाधन विकसित करने के लिए की गई है। केंद्र की एक प्रमुख गतिविधि इलेक्ट्रॉनिक तथा आईटी उद्योग हेतु उत्पादन और गुणवत्ता नियंत्रण के क्षेत्र में कार्मिकों का प्रशिक्षण है।

उक्त केंद्र पर तीन प्रकार के प्रशिक्षण आयोजित किए जाते हैं, जो निम्नलिखित हैं :

 विद्युत मापन यंत्र डिजाइन संस्थान मुंबई

यह संस्थान भारत सरकार  और यूएनडीपी/ यूनिडो का एक संयुक्त उपक्रम है और इसकी स्थापना स्वदेशी यंत्र उद्योग की वृद्धि संभावना को तीव्र करने और इसलिए औद्योगिक क्षेत्र - चाहे यह विद्युत क्षेत्र हो या इलेक्ट्रॉनिक्स या प्रक्रिया नियंत्रण उपकरण -  में उत्पादकता तथा गुणवत्ता नियंत्रण में वृद्धि कर देश की सतत वर्द्धनशील यंत्र आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए की गई। यंत्र उद्योग की विविध आवश्यकताओं के अऩुकूल विविध गतिविधियाँ चलाने के मद्देनजर संस्थान को एक नोडल केंद्र के रूप में देखा जाता है। संस्थान यंत्र उद्योग के अनेक विषयों में तमाम तरह के प्रोफेशनलों को तकनीकी प्रशिक्षण प्रदान करता है।

संस्थान द्वारा प्रदान किए जाने वाले विभिन्न प्रशिक्षण पाठ्यक्रमों को देखने के लिए यहाँ क्लिक करें।