क्रय करार

विक्रेता का अंतिम चयन होने और वार्तालाप पूरे होने के बाद, फर्म व विक्रेता के बीच एक औपचारिक क्रय करार किया जाता है । क्रय/ विक्रय करार एक कानूनी दस्तावेज है, जिसमें माल व सेवाओं को खरीदने के कार्य की नियम व शतें शामिल होती हैं, जिन्हें सौदे के भाग के रूप में दोनो पक्ष स्वीकार करते हैं ।

आपको सुनिश्चित करना चाहिए कि सभी क्रय करारों में मानक नियम व शर्तें दी जाएं, जिन्हें कानूनी सलाह लेकर तैयार किया जा सकता है । क्रय करार के अंतर्गत सभी स्थितियों में आपके हितों की रक्षा होनी चाहिए । इस प्रकार, करार के अनुसार कार्य न किए जाने पर लागू  नियम व शर्तें भी करार में दी जानी चाहिए । इसमें दोषपूर्ण माल देने, विलंबित सुपुर्दगी आदि हेतु दांडिक राशि भी शामिल हो सकती है ।

क्रय आदेश

क्रय आदेश एक वाणिज्यिक प्रपत्र है, जो क्रेता द्वारा विक्रेता को जारी किया जाता है, जिसमें विक्रेता द्वारा क्रेता को दिए जाने वाले उत्पादों या सेवाओं के प्रकार मात्रा व तय दरों का उल्लेख होता है ।