वितरण चैनल

Distribution Channels

 

वितरण चैनल को बिचौलियों की एक श्रृंखला के रूप में परिभाषित किया गया है, प्रत्येक श्रृंखला उत्पाद को अगले संगठन की श्रृंखला तक आगे पहुँचाती रह्ती है और अंततः यह उपभोक्ता या अंतिम उपयोगकर्ता तक पहुँचता है.

आमतौर पर वितरण चैनलों के चार प्रकार हैं:


कंपनी से स्टॉकिस्ट से खुदरा विक्रेता से उपभोक्ता यह एक पारंपरिक व्यापार चैनल है जिसे ज्यादातर उपभोक्ता वस्तु कंपनियों द्वारा अपनाया जा रहा है.


कंपनी से स्टॉकिस्ट से उपभोक्ता यह चैनल सीमेंट और बिजली जैसे कोर उद्योगों द्वारा थोक बिक्री के लिए अपनाया जाता है.


कंपनी से खुदरा विक्रेता से उपभोक्ता यह संगठित या आधुनिक खुदरा बिक्री में एक प्रचलित बिक्री चैनल है


कंपनी से उपभोक्ता यह एमवे और मोदीकेयर जैसी बहु स्तरीय विपणन कंपनियों के प्रत्यक्ष बिक्री चैनल का प्रचलित रूप है.

 
वितरण चैनल का चयन

वितरण चैनल का चयन उत्पाद के प्रकार, बिक्री की मात्रा और ग्राहकों / उपभोक्ताओं के प्रकार पर निर्भर करता है. आवश्यक वितरण चैनल का प्रकार निम्नलिखित पर निर्भर करता है:
 
• आपके उत्पाद की प्रकृति (क्या वह नाजुक/गर्मी/ ठंढ़ी/ परिवहन के प्रति संवेदनशील है और उसके लिए विशेष परिवहन या भंडारण की आवश्यकता पड़ती है?)


• लक्ष्य बाजार (ग्राहक इसी तरह के उत्पादों की खरीद कहां से करना पसंद करते हैं और उनकी उम्मीदें क्या हैं?)


• बाजार की प्रकृति (जहाँ अच्छी तरह से परिभाषित प्रदेशों के साथ मजबूती से संस्थापित वितरण चैनल हो सकते हैं )


• एक आम ग्राहक कैसे खरीदारी करना पसंद करता है.
 


किसी वितरण चैनल का चयन करने के लिए चेकलिस्ट पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें.

 


चैनल भागीदारों का चयन


एक सही चैनल साथी (सीएनएफ / वितरक / थोक व्यापारी) का चयन बहुत महत्वपूर्ण होता है, विशेष रूप से एक छोटे व्यवसाय के लिए, जिसके कई चैनल भागीदारों नहीं हो सकते. सही चैनल साथी का चयन करने के लिए,  किसी भी व्यवसाय को निम्नलिखित  बुनियादी विशेषताओं पर ध्यान देना चाहिए: -


• अनुभव के वर्ष
• उपभोक्ताओं की संख्या और प्रकार
• उत्पादों के प्रकार
• भौगोलिक पहुंच
• बाजार ज्ञान
• वित्तीय सक्षमता
 


 चैनल साथी चुनने के लिए अधिक विस्तृत जाँच-सूची पढ़ने के लिए क्लिक करें.