स्थान की खोज और मूल्यांकन

 

हर उद्यमी को अपने कारखाने या संयंत्र के लिए स्थान तय करने की समस्या का सामना करना पड़ता है. व्यापार की सफलता या विफलता को प्रभावित करने में स्थान सबसे महत्वपूर्ण कारक है .यह लंबी अवधि के लिए ऐसा निर्णय है जिसे लेते समय संगठन की न केवल वर्तमान आवश्यकताओं को , बल्कि भविष्य की विस्तार योजनाओं को भी ध्यान में रखना चाहिए. स्थान के चयन में की गई गल्ती मुश्किलभरी और सुधारने के लिए बहुत महंगी साबित हो सकती है. एक संयंत्र के स्थान निर्धारण पर मशीनरी और उपकरण के लेआउट तथा उत्पादन की प्रक्रिया का असर पड़ता है. स्थान का चुनाव कई महत्वपूर्ण कारकों पर निर्भर करता है.


भारत के विभिन्न राज्यों में औद्योगिक अवसर या मुख्य क्षेत्र के लिए यहाँ क्लिक करें
 


किसी उद्यम की स्थापना के लिए किसी क्षेत्र का चयन निम्नलिखित महत्वपूर्ण कारकों पर निर्भर करता है:
 
अच्छी गुणवत्ता वाले कच्चे माल की उपलब्धता


श्रम की आपूर्ति


उत्पाद बाजार के लिए निकटता


कच्चे माल और तैयार माल की आवाजाही के लिए परिवहन सुविधाओं की उपलब्धता


पर्याप्त विद्युत आपूर्ति


जलवायु कारक


सरकारी विनियम और नीतियां


कानून और व्यवस्था


पूरक और प्रतिस्पर्धी उद्योगों के अस्तित्व


विशेष क्षेत्र का चयन करने के बाद, सबसे सुविधाजनक स्थान का चुनाव किया जाना चाहिए. स्थान के मूल्यांकन के लिए दो सबसे महत्वपूर्ण बातों पर विचार करना चाहिए:


 
भूमि का मूल्य (पट्टे के मामले में किराया और करों सहित)


अपशिष्ट का निपटान: कई कारखानों के लिए, अपशिष्ट का निपटान सटीक स्थान का चयन करने के लिए बहुत महत्वपूर्ण कारक होता है. तरल अपशिष्ट के निपटान के लिए उचित सीवर कनेक्शन या नदी की आवश्यकता होती है, जबकि ठोस अपशिष्ट के निपटान के लिए एक डंप की उपलब्धता या भूमि के अतिरिक्त टुकड़े की जरूरत पड़ती है.
 



निपटान स्थलों के समुचित कार्य और रखरखाव के लिए दिशानिर्देश देखें.