लागत को घटाना

लागत घटाना, उत्‍पादन बढ़ाना व संगठनों का सुगठित होना, उनके अस्तित्‍व के लिए अनिवार्य हो गया है । लागत घटाने व नियंत्रण को व्‍यवसाय के विभिन्‍न क्षेत्रों में कार्यान्वित किया जा सकता है जैसे कच्‍चा मालअधिप्राप्ति, लाजिस्टिक्‍स, गोदाम व स्‍टोर, विनिर्माण प्रक्रिया, ऊर्जा, ईंधन व पानी, सूचना प्रौद्योगिकी, मानव संसाधन आदि ।

लागत में कमी व लाभ बढाने हेतु युक्तियां 

एमएसएमई अपनी दैनिक गतिविधियों में निम्‍न युक्तियां अपनाकर लागत पर नियंत्रण व लाभ में सुधार सुनिश्चित कर सकते हैं ।

  • पुन:चक्रण एवं पुनरुपयोग 
    • अपने आपूर्तिकर्ताओं से प्राप्‍त प्‍लास्टिक बैग, लिफाफों व अन्‍य पैकेजिंग का उपयोग करें, क्‍योंकि इससे अच्‍छे ट्रेश बैग बन सकते हैं । 
    • उन फोटोकॉपी व प्रिंट कागजों का दोबारा प्रयोग करें, जो गलत छप गए हों । यदि इसमें गोपनीय सूचना न हो, तो इनका उपयोग स्‍टाफ द्वारा नए नोटबुक व नोट पैड के स्‍थान पर लिखने या लघु नोट के रूप में भी किया जा सकता है । 
    • कागज के दोनों ओर फोटोकॉपी व प्रिंट लेना सीखें । ऐसे फोटोकॉपियर व प्रिंटर खरीदें, जो ऐसा कर सकें  और समस्‍त स्‍टाफ को कागज के दोनों ओर प्रिंट लेने के लिए कहें । 
  • कम लागत के सामान का उपयोग  
    • पेपर नैपकिन व पेपन टॉवेल का उपयोग बंद कर दें । कपडे के टॉवेल अधिक शोषक होते हैं व बार बार उपयोग किए जा सकते हैं । वे कागज की तुलना में अच्‍छा साफ भी करते हैं ।   
  • खरीदने से पहले दो बार सोचें 
    • कोई भी खरीद करने से पहले सोचें । अपने आप से पूछें कि क्‍या ये जरूरी है या केवल आप बस इसे लेना चाहते हैं । क्‍या आपके पास ऐसी कोई चीज है, जो समान काम कर सकती है । क्‍या इसकी गुणवत्‍ता अच्‍छी है या इसे कुछ वर्ष बाद फिर बदलना पडेगा । सबसे महत्‍वपूर्ण, क्‍या आप इस वस्‍तु के लिए, अपने लाभ में बढोतरी एवं लागत में कमी के लक्ष्‍यों को रोकना चाहते हैं । यदि वस्‍तु अनावश्‍यक हो, तो इसे न लें ।

ऊर्जा दक्षता विधियां  

    • सौर ऊर्जा अर्जित करें और इसका उपयोग अपनी गर्म व ठंडा करने संबंधी जरूरतों के लिए करें । सरकार भी सौर ऊर्जा के प्रयोग हेतु कई प्रोत्‍साहन व छूटें प्रदान करती है ।
    • जहां भी संभव हो, सी‍लिंग पंखे लगाएं । 
    • खि‍डकियां खोलें । ऐसा करने से न केवल आपकी हीटिंग लागतें कम होंगी, बल्कि प्रकाश व्‍यवस्‍था पर भी कम व्‍यय होगा ।
  • कम बिजली की खपत 
    • ऊर्जा दक्ष बल्‍ब उपयोग करें । 
    • ऐसी प्रणालियां स्‍थापित करें जिसमें कुछ क्षेत्रों में बल्‍ब स्‍वत: बंद हो जाएं ।
    • सभाकक्ष, प्रसाधन जैसी जगहों पर उपयोग में न आने पर लाइट बंद रखें ।
    • अपने स्‍टाफ से अनुरोध करें और उन्‍हें प्रशिक्षित करें कि वे प्रतिदिन की समाप्ति पर सभी बिजली के उपकरण व लैपटॉप के स्विच बंद करके जाएं ।
  • पानी के व्‍यर्थ उपयोग को घटाएं 
    • यदि आपके प्रसाधन कक्ष व कॉमोड में आधा फ्लश व पूरा फ्लश के लिए दो अलग बटन नहीं हैं, तो ऐसे बटन लगाएं । इससे लंबे समय तक पूरे वर्ष पानी की भारी मात्रा की बचत होगी ।
    • ऐसे नल उपयोग करें, जो सी‍मित मात्रा में पानी देने के बाद स्‍वत: बंद हो जाएं ।
    • लीक कर रहे टॉयलेट्स व फॉसेट की मरम्‍मत कराएं ।
    • अपने कार्यालय लॉन हेतु मुल्‍च व अन्‍य पानी बचाने वाली प्रणालियां उपयोग करें, जैसे ड्रिप प्रणाली व भाप बनकर उडने से बचाने के लिए अतिरिक्‍त शेड लगाएं ।
    • बारिश के पानी को संरक्षित करें व इसे बडे टैंकों में रक्षित करें ।
  • स्‍टाफ उत्‍पादकता बढाएं 
    • ध्रूमपानरहित नीति बनाएं या धूम्रपान कम करें । कई स्‍टाफ सदस्‍य कार्यालय से बाहर धूम्रपान करने में समय व्‍यतीत करते हैं । कभी कभी अन्‍य स्‍टाफ सदस्‍य भी उनके साथ जाकर काफी उत्‍पादक समय नष्‍ट करते हैं ।
    • प्रत्‍येक कर्मचारी हेतु विशेष प्रशिक्षण अवसर उपलब्‍ध कराएं, ताकि उनके कार्यनिष्‍पादन में सुधार में मदद हो ।
    • अपने कर्मचारियों को उनकी उत्‍पादकता बढाने में सहायक उपकरण दें ।
    • ज्‍यादा कार्य हेतु अतिरिक्‍त प्रोत्‍साहन दें ।
    • टीम की उपलब्धियों को प्रकाशित व स्‍वीकार कर टीम का नैतिक बल बढाएं ।

 

Read below articles on Cost reduction
Source: Indian Institute of Materials Manage References:
Various articles of Skanda Kumarasingam, Management Professional, profitmaps.com