विपणन

Marketing

अति लघु, लघु एवं मध्यम उद्योगों (एमएसएमई) के सामने बढते हुये बाज़ार के बारे में पर्याप्त जानकारी का हमेशा अभाव रहता हॆ। अपने छोटे आकार के कारण वे अपनी क्षमताओं के अनुसार बाज़ार का पूरा दोहन नहीं कर पाते। तथापि, वर्तमान स्पर्द्धात्मक वातावरण में व्यवसाय को लाभप्रद बनाये रखने के लिये घरेलू तथा अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में विस्तार अनिवार्य हो गया हॆ। नीचे दी गयी जानकारी एमएसएमई को अपने बाज़ार का विस्तार करने हेतु सहायक हो सकती हॆ।  

बढते बाज़ारों हेतु बाज़ार अध्ययन करना

बाज़ार अध्ययन नयी विपणन संभावनाओं का पता लगाने तथा संभावित बाज़ार में अपने उत्पादों / सेवाओं की मांग की जानकारी प्राप्त करने में सहायक सिद्ध हो सकता हॆ। इसके द्वारा उन्हें नये बाज़ारों में मिलने वाली प्रतिस्पर्द्धा का आकलन करने में भी सहायता मिल सकती हॆ। विपणन में विस्तार के अतिरिक्त बाज़ार अध्ययन का उपयोग एमएसएमई द्वारा अपने नियमित परिचालनों जॆसे ग्राहक प्रतिसूचना, उत्पाद पोर्टफ़ोलियो, इत्यादि हेतु भी किया जा सकता हॆ।   

बाज़ार अध्ययन तथा इससे संबंधित तकनीकों के विषय में जानने हेतु, यहां क्लिक करें

बढते बाज़ारों हेतु विपणन की संकल्पनाओं को समझना

व्यवसाय को सुचारु रूप से चलाने तथा अपने बाज़ार को विस्तारित करने के लिये यह अनिवार्य हॆ कि मूलभूत विपणन तकनीकों एवं संकल्पनाओं जॆसे बाज़ार के साथ संप्रेषण के तरीके क्या हॆं, उत्पादों के वितरण/आपूर्ति की योजना कॆसे बनानी हॆ, अपने उत्पाद हेतु आपूर्ति आदेश कॆसे प्राप्त करने हॆं तथा अपने उत्पादों की कीमत कॆसे निर्धारित करनी हॆ,आदि को समझा जाये

बाज़ार संप्रेषण

वितरण

आदेश/क्वेरी प्राप्त करना

मूल्य निर्धारण तथा कोटेशन देना

विदेशी बाज़ारों का दोहन कॆसे करें?

एमएसएमई को अपने उत्पादों के लिये विद्देशी बाज़ारों का दोहन करने में प्रायः कठिनाई होती हॆ क्योंकि या तो उनके पास संभावित बाज़ारों की जानकारी का अभाव रहता हॆ, अथवा विदेशी बाज़ारों में निर्यत से संबंधित विभिन्न विनियमों, दिशानिर्देशों, तथा प्रक्रियाओं का पर्याप्त ज्ञान नहीं होता।   
 

सरकार द्वारा उपलब्ध कराया जाने वाला विपणन सहयोग

एमएसएमई क्षेत्र के उत्पादों को बाज़ार में बेहतर स्पर्धात्मक स्थिति उपलब्ध कराने के उद्देश्य से एमएसएमई मंत्रालय विभिन्न योजनाओं का क्रियान्वयन कर रहा हॆ। 

एमएसएमई मंत्रालय द्वारा कार्यान्वित एमएसएमई योजनायें

  • अति लघु एवं लघु उद्यमों हेतु सरकारी खरीद तथा अधिमान्य मूल्य नीति ( केवल एमएसई क्षेत्र से ही खरीदी जाने वाली 358 वस्तुओं की सूची हॆतु (यहां क्लिक करें) )
  • एमएसएमई निर्यातकों हेतु विपणन विकास सहायता (एसएसआई एमडीए)
  • अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनियों / मेलों में सहभागिता
  • बार कोडिंग हेतु वित्तीय सहायता
  • अनुषंगीकरण हेतु वेन्डर विकास कार्यक्रम


विकास आयुक्त (एमएसएमई) द्वारा क्रियान्वित विभिन्न विपणन सहायता योजनाओं की जानकारी हेतु यहां क्लिक करें

एमएसएमई मंत्रालय राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम (एनएसआईसी) के माध्यम से विपणन सहायता योजना के अंतर्गत अति लघु एवं लघु उद्यमों को विपणन सहयोग उपलब्ध करा रहा हॆ।

  • एनएसआईसी द्वारा विदेशों में अंतर्राष्ट्रीय प्रॊद्योगिकी प्रदर्शनियों का आयोजन तथा अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनियों/ व्यापार मेलों में सहभागिता। .
  • घरेलू प्रदर्शनियों का आयोजन तथा प्रत्येक वर्ष आयोजित किये जाने वाली टेक्मार्ट प्रदर्शनी सहित भारत में आयोजित प्रदर्शनियों/व्यापार मेलों में सहभागिता
  • थोक खरीदारों/सरकारी विभागों तथा एमएसएमई को एक स्थान पर एकत्र करने के उददेश्य से अन्य संगठनों/उद्योग संघों/एजेंसियों द्वारा आयोजित क्रेता विक्रेता सम्मेलनों तथा प्रदर्शनियों में सह प्रायोजन हेतु सहयोग
  • विपणन विकास हेतु सघन अभियान तथा अन्य आयोजन।

एनएसआईसी की विभिन्न विपणन योजनाओं पर जानकारी हेतु यहां यहां क्लिक करें