संयंत्र और मशीनरी का अनुरक्षण

Maintenance of Plant & Machinery

उद्योगों की प्रक्रिया और इंजीनियरिंग में रख-रखाव की मुख्य भूमिका होती है। एक संयंत्र तभी सफल माना जाता है, जब वह बिना किसी रुकावट के कार्य करता है और यह तभी संभव है जब यह समुचित रूप से हमेशा कार्य करता रहे । बढ़ती हुई कृत्रिमता के साथ रख–रखाव का सामरिक महत्‍व भी बढ़ जाता है ।

पूर्व में विशिष्ट औद्योगिक परिदृश्य के अन्‍तर्गत रख – रखाव का प्रचलन इस प्रकार रहा हैः-  
•    55% प्रतिक्रियाशील अनुरक्षण
•    31% निवारक अनुरक्षण
•    12% भावी अनुरक्षण और
•    2% अन्‍य

वर्तमान में उद्योग क्षेत्र में रखरखाव का दृ्ष्टिकोण प्रतिक्रियाशील से शिफ्ट होकर अति सक्रिय रखरखाव पर केन्द्रित हो गया है ।
अनुरक्षण की सफल कार्यनीति जिनका एसएमइस अनुकरण कर सकती हैं:-

•    आपने देखा होगा कि  किस प्रकार श्रीराम ग्रुप के सहयोगी श्रीराम पिस्‍टन और रिंग्‍स लि़मिटिड ने योजनावद्व रखरखाव , समयवद्व निरीक्षणों और सामायिक निगरानी से अपनी एल्‍यूमिनयम फाऊंडरी में मशीनरी बन्‍द न होने की स्‍थिति को प्राप्त किया है ।
•    किस प्रकार मुंजाल शोवा लिमिटेड और हीरो समूह कम्‍पनी ने शॉक एबसोर्बरस के निर्माण में विश्‍व का नेतृत्‍व किया और डिजाईन बदल कर रख-रखाव की जरूरतों /भावनाओं को कम किया ।
•    इसी प्रकार जब से पैप्‍सी इंडिया ने 2002 में पदभार सँभाला, अराधना सॉफ्ट ड्रिंक्‍स कम्‍पनी ने स्‍वायत्त रखरखाव के माध्‍यम से रखरखाव की आवश्‍यकताओं में कमी की ।
नोट : उपर्युक्‍त उदाहरणों में दर्शाई गई सभी कम्‍पनियों ने एक या दूसरे तरीक से “स्‍वायत्‍त रख रखाव” के लिए जापानी शब्‍द “जिशु होजन” का प्रयोग किया है । रख-रखाव का यह तरीका कुल उत्‍पादक अनुरक्षण के रूप में विख्‍यात अवधारणा का एक महत्‍वपूर्ण स्‍तंभ है ।

कुल उत्‍पादक अनुरक्षण

जेआईपी टोक्‍यो ने 60वें दशक के बाद टीपीएम की अवधारणा का उदगम तथा विकास किया था। कई जापानी कम्पनियों के लिए परिचालन विशिषठता का मूल सिद्धान्त जेआईपीएम-टीपीएम है।
इसे मशीनों के चिकित्सा विज्ञान के रूप में माना जा सकता है। कुल उत्पादकता अनुरक्षण वह प्रोग्राम है, जिसमें संयंत्र और उपकरणों के अनुरक्षण की नवीन परिभाषित अवधारणा शामिल है। टीपीएम प्रोग्राम का उद्देश्य एक ओर उत्पादन में समुचित रूप से वृद्धि करना और दूसरी और कर्मचारियों के मनोबल और कार्य-संतुष्टि को बढाना है।
टीपीएम अनुरक्षण को व्यवसाय के एक आवश्यक और बेहद महत्वपूर्ण भाग के रूप में केन्द्रित करता है। इसे अब गैर-लाभ गतिविधि के रूप में नहीं माना जाता। अनुरक्षण के लिए बन्द समय को विनिर्माण दिवस का ही भाग माना जाता है और कुछ केसों में यह विनिर्माण अवधि का एक अभिन्न हिस्सा है। इसका उद्देश्य है कि आपातकाल स्थितियों को रोका जाए और अनिर्धारित अनुरक्षण को कम किया जाए।

 कृपया टीपीएम की अधिक जानकारी के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों को देखें-

•    टीपीएम क्या और क्यों है
•    टीपीएम का इतिहास
•    अनुरक्षण के प्रकार
•    टीपीएम के उद्देश्य और लाभ
•    टीपीएम का बिन्दूवार निर्देशन