स्थापित होना (पोजीशनिंग)

Positioning

स्थापित होना (पोजीशनिंग) एक ऐसी प्रकिया है, जिसके जरिए विपणनकर्ता अपने उत्पादों, ब्रांड अथवा संगठन के बारे में लक्ष्य ग्राहकों के दिमाग में अपनी छवि अथवा पहचान बनाने का प्रयास करते हैं।  यह  छवि/पहचान निम्नलिखित विशेषताओं का उल्लेख करके बनाई जा सकती है, जिससे कि लक्षित समूहों की आवश्यकताओं की पूर्ति हो सके, अपेक्षित लाभों की प्राप्ति हो सके, खरीददारी की आदतों और अवसरों के अनुसार  उत्पादों को बेचा जा सके।

  • उत्पाद की भौतिक विशेषताएँ - बोस - ''बेटर साउंड थ्रू रिसर्च'' 
  • उत्पाद/सेवा को पेश करने संबंधी विशेषताएँ - कोका कोला -  ' कोका कोला रिफ्रेश यू बेस्ट''   
  • उत्पाद/ सेवा की प्रजातीय विशेषताएँ - 'ए डॉयमंड इज फॉर एवर'
  • कभी-कभी निम्नलिखित विशेषताओं का एक साथ उल्‍लेख करना आवश्यक होता हैः

        गुणवत्ता - फोर्ड  - ' क्वालिटी इज जोब वन' 

        समय - डॉमिनोस  - ' फास्‍ट होम डिलीवरी ऑफ पिज्‍ज़ा अंडर 30 मिनट'

 

स्थापित होने के कुछ उदाहरण

डॉमिनोस पिज्ज़ा ने स्वयं को एक ऐसी कम्पनी के रूप में स्थापित किया है, जो '30 मिनट में पिज्ज़ा  आपके  घर पर पहुंचा' देती है।  इसके परिणाम से ' पिज्ज़ा हट' स्थापित हुआ, जहाँ आप जा सकते हैं और पिज्ज़ा खा सकते हैं।  किन्तु जब भी हम घर पर पिज्ज़ा मंगवाने की  सोचते हैं, तो डॉमिनोस का ही ख्याल आता है।   अतः स्थापित होने का आशय ग्राहकों के दिमागों में छवि बनाना है।

फेयरनेस क्रीमों  की बात करते ही  ग्राहकों के दिमाग में सबसे पहला नाम  'फेयर एंड लवली' का आता है।  यह ब्रांड ग्राहकों के दिमागों की गहराई में उतर चुका है।  ऐसे में, फेयरनेस क्रीम बनाने वाली दूसरी कम्पनियाँ अपने उत्पादों को अलग दिखाने के लिए क्या करें?  इन्होंने 'फेयर एंड हेंडसम' नाम से बाजार में एक ऐसी क्रीम उतारी,  जिसे खासतौर पर मर्दों के लिए बनाया गया है। सोचने वाली बात यह है कि दोनों क्रीमों को बनाने और इस्तेमाल करने की प्रक्रिया एक जैसी ही है और दोनों का इस्तेमाल मर्द और औरतें दोनों कर सकते हैं ।  किन्तु स्थापित होने(पोजिशनिंग) के अंतर के कारण पहली क्रीम का इस्तेमाल ज्यादातर औरतें करती हैं और  दूसरी का इस्तेमाल मर्दो द्वारा किया जाता है।

 

किसी उत्पाद को स्थापित करने के तरीके

  • किसी विशिष्ट बाजार में कुछ क्षेत्रों को परिनिश्चित करें।
  • अब यह निर्णय किरें कि किस क्षेत्र को लक्ष्य बनाना है।
  • इस बात को समझें कि उत्पादों की खरीददारी करते समय लक्ष्य ग्राहकों की अपेक्षाएँ क्या होती हैं और वे किसी वस्तु को खरीदने का निर्णय उसकी कौन-सी विशेषता से से आकर्षित होकर करते हैं।
  • ऐसा उत्पाद तैयार करें, जो  विशेषतः इन आवश्यकताओं और अपेक्षाओं को पूरा करता हो।
  • चुन्निदा बाजारों में आपके उत्पाद की लक्ष्य ग्राहकों के दिमाग में किस हद तक जगह और छवि बनी बनी है, उसका मूल्यांकन  करें।
  •  प्रतिस्पर्द्धि उत्पाद की तुलना में  आपके उत्पाद ने अपनी जिस विशेषता के कारण   छवि बनाई है, उसे चुने और इस प्रकार यह सुनिश्चित करें कि  आपके उत्पाद की इस  विशेषता से लक्ष्य समूहों की अपेक्षाओं की पूर्ति हो रही है।
  • उत्पाद की जानकारी लक्ष्य ग्राहकों तक पहुँचाएं।