कर्मचारी भविष्य निधि

नियोक्ता का अंशदान

 ) कर्मचारी भविष्य निधि योजना

20 या अधिक व्यक्तियों का नियोजन करने वाले और अधिनियम की धारा 6 के अधीन अधिसूचित उद्योग में संलिप्त प्रतिष्ठानों (रुग्ण घोषित प्रतिष्ठानों से इतर) के संबंध में, मूल वेतन, मँहगाई भत्ते, भोजन रियायत के नक़द मूल्य और प्रतिधारण भत्ते, यदि कोई हो, का 12%, किंतु अधिकतम 6500/- रुपये प्रतिमाह। सदस्य और नियोक्ता के संयुक्त अनुरोध पर उच्चतर स्वैच्छिक अंशदान भी स्वीकार्य होता है। तथापि, निम्नलिखित श्रेणियों के प्रतिष्टानों के संबंध में अंशदान की दर 10% होती है :

  1. 22.09.97 के पहले शामिल कोई प्रतिष्ठान, जिसमें 20 से कम व्यक्ति नियोजित हैं।
  2. रुग्ण औद्योगिक कंपनी (विशेष प्रावधान) अधिनियम, 1985 की धारा 3 की उप-धारा (1) की शर्त (0) में परिभाषित कोई रुग्ण औद्योगिक कंपनी और जिसे औद्योगिक एवं वित्तीय पुनर्संरचना बोर्ड ने रुग्ण घोषित किया हो।
  3. कोई प्रतिष्ठान, जिसकी किसी वित्तवर्ष की समाप्ति पर संचयी हानि उसकी समग्र कुल संपत्ति के बराबर या उससे अधिक हो।
  4. कोई प्रतिष्ठान, जो (क) जूट, (ख) बीड़ी, (ग) ईँट, (घ) कयर (कताई क्षेत्र से इतर), (ड.) ग्वार गोंद उद्योग /फ़ैक्टरी के विनिर्माण के कार्य में संलिप्त हो।

) कर्मचारी पेन्शन योजना

  • भविष्य निधि में नियोक्ता के अंशदान में से कुल पारिश्रमिक का 8.33%, किंतु अधिकतम 6500/- रुपये प्रतिमाह अलग कर कर्मचारी पेन्शन निधि खाता सं. 10 में जमा किया जाता है (01.06.2001 से)। केंद्र सरकार भी कुल पारिश्रमिक के 1.1/6% की दर से अंशदान करेगी।
     

) कर्मचारी की जमाराशि आधारित बीमा योजना:
 

  • कर्मचारी के पारिश्रमिक से किसी राशि की वसूली नहीं की जाती है। नियोक्ता को कुल पारिश्रमिक का 0.5%, किंतु अधिकतम 6500/- रुपये प्रतिमाह अदा करना चाहिए (01.06.2001 से)।

 

पेन्शन योजना में किसे शामिल किया जाएगा?

बंद की गई परिवार पेन्शन योजना 1971 का प्रत्येक सदस्य और कोई अन्य जो शामिल प्रतिष्ठानों में 16.11.95 को या उसके बाद कार्यग्रहण करता है, उसे इस योजना में अनिवार्य रूप से शामिल होना होता है, बशर्ते नियुक्ति की तिथि पर उसका वेतन /पारिश्रमिक 6500/- रुपये प्रतिमाह से कम हो।

 

शामिल प्रतिष्ठान क्या है?

शामिल प्रतिष्ठान वे प्रतिष्ठान हैं, जो उन उद्योग वर्गों/अन्य प्रतिष्ठानों की श्रेणी में आते हैं, जिन्हें कर्मचारी भविष्य निधि तथा विविध प्रावधान अधिनियम, 1952 के साथ अनुलग्न अनुसूची में सूचीबद्ध किया गया है और जिनमें 20 या अधिक व्यक्ति नियोजित हैं।

 

क्या निधि का लाभ केवल कर्मचारी को मिलता है?

लाभ कर्मचारी को और उसकी अनुपस्थिति में उसके परिवार को अदा किए जाते हैं। परिवार से तात्पर्य कर्मचारी का/की पति/पत्नी और 25 वर्ष से कम आयु के बच्चों से है। यदि उसका कोई परिवार नहीं है, तो लाभ उसके नामिती को अदा किए जाएँगे, जो उसकी अनुपस्थिति में लाभ प्राप्त करेगा। और यदि सदस्य ने कोई नामांकन नहीं किया है, तो लाभ आश्रित माता-पिता को अदा किए जाएँगे।

   

क्या सदस्य अपने नामांकन में परिवर्तन कर सकता/सकती है?

नामांकन के लिए निर्धारित नियमों के अंदर वह जब भी चाहे, अपने नामांकन में परिवर्तन कर सकता /सकती है। दूसरे शब्दों में, यदि उसका परिवार है, तो वह परिवार के सदस्य/सदस्यों के पक्ष में नामांकन कर सकता/सकती है। यदि उसका परिवार नहीं है, तो वह अपनी इच्छा के अनुरूप किसी भी व्यक्ति के पक्ष में नामांकन कर सकता/सकती है।

   

सदस्य को पेन्शन प्राप्त करने का पात्र होने के लिए कितने वर्ष की सेवा आवश्यक होती है?

न्यूनतम 10 वर्ष की पात्र सेवा सदस्य को पेन्शन का हक़दार बनाती है। 

 

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें